गंगा

गंगा

कहने को है अमृत की धारा,
कूड़े से पटा हुआ उसका जल सारा ।
पाप धुलने का मार्ग बन गई गंगा,
हर किसी के स्पर्श से मैली हो गई गंगा ।
कभी प्रसाद की थैली के नाम पर,
कभी फूलों के बंडल के नाम पर,
कभी कपड़े के गट्ठरों के नाम पर,
भरती चली गई गंगा ।
धो डालो सारे रीति रिवाज,
जो करते है गंगा को गन्दा,
अब मिलकर साफ करेगा गंगा को हर एक बन्दा ।
समय आ गया है अब बदलने गंगा की मूरत,
गंगा हमारी मां जैसी,
अविरल है उसकी मूरत ।
प्रण करो न डुबकी लगाएंगे,
ना प्रसाद चढ़ाएंगे,
सब मिलकर गंगा को साफ बनाएंगे,
और थोड़ा सा जल हाथ में लेकर अब उसका अस्तित्व बचाएंगे।

अंशिका जौहरी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. राम नरेशपुरवाला - September 16, 2019, 9:34 am

    Very good

  2. देवेश साखरे 'देव' - September 16, 2019, 12:51 pm

    Bahut khub

  3. NIMISHA SINGHAL - September 16, 2019, 1:28 pm

    Very nice

  4. Poonam singh - September 16, 2019, 3:19 pm

    Nice

Leave a Reply