चाँद

चाँद

आखिर कौन किसको देखने छत पर आया करता है,
चाँद इस ज़मीं पे या उस आसमान पे छाया करता है,

इंतज़ार कौन और किसका बड़ी बेसबरी से करता है,
पहले अंधेरा या रौशनी कौन किसको पाया करता है,

उम्र किसकी और कितनी बढ़ाने की चाहत में पागल,
है कौन जो रात दिन यूँहीं पलकें झपकाया करता है।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - October 17, 2019, 5:20 pm

    वाह

  2. Poonam singh - October 17, 2019, 6:34 pm

    Nice

  3. nitu kandera - October 17, 2019, 10:36 pm

    Good

  4. NIMISHA SINGHAL - October 18, 2019, 4:49 am

    Kya khub

Leave a Reply