जिंदगी की चाहत

जहाँ हमें मिलना था वहीं मिलते
तो अच्छा था
जहाँ दूरियां न होती नजदीकीयां होती
वहीं मिलते तो अच्छा था
जहाँ फूल खिलते बहारें होती वहीं मिलते
तो अच्छा था
जहाँ सपने न होते हकीकत होती वही मिलते
तो अच्छा था
जहाँ वादे न होते भरोसा होता वही मिलते
तो अच्छा था
जहाँ दुशमनी न होती दोस्ती होती वहीं मिलते
तो आच्छा था
जहाँ वतन होता हिन्दुस्तान होता वहीं होते
तो अच्छा था
जहाँ वंदेमातरम् होता जहाँ राष्ट्रीय गान होता वहीं होते
तो अच्छा था ।

जयहिंद – रीता अरोरा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

1 Comment

  1. Kamal Tripathi - August 22, 2016, 3:53 pm

    heart touching ji

Leave a Reply