जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि

एक समय की बात है। गुरू द्रोण अपने दो शिष्य युधिष्ठिर एवं दुर्योधन को पास बुलाया।द्रोण -“तुम दोनो संसार को देख आओ, कौन अच्छा है कौन बुरा है “।दोनो आदेश के पालन करने के लिए निकल पड़े । कुछ दिन गुजरने के बाद दोनों गुरू द्रोण के पास पहुँचे। पहले युधिष्ठिर बोला -“मुझे छोड़ कर संसार में सभी अच्छे थे “।दुर्योधन बोला -“मुझे छोड़ कर संसार में सभी बुरे व्यक्ति थे “।ठीक उसी प्रकार जैसी हमारी दृष्टि होगी, वैसी हमारी सृष्टि होगी।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - July 4, 2020, 1:22 pm

    Good thinking

  2. Praduman Amit - July 6, 2020, 5:06 pm

    Thanks

  3. Abhishek kumar - July 10, 2020, 9:43 pm

    👌

  4. Satish Pandey - July 11, 2020, 12:48 pm

    बहुत खूब

  5. Abhishek kumar - July 31, 2020, 2:04 am

    बहुत ही सुंदर वर्णन

Leave a Reply