तूफां मन के

तूफां मन के अंदर हो या समुन्दर में
लहरें कुछ न कुछ खींच के ले ही जाती है
राजेश ‘अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close