तेरा सजदा – 115

तेरा सजदा – 115

         

कोई जग की बेजड़-सोचें छोड़, तेरी ही सोच मन मन्दिर रचाई है

कोई जग की सब सोचे जोड़, सिर्फ़ तेरी सोच ही बस भुलाई है      

                                                       

                                           …… यूई

Related Articles

Responses

New Report

Close