पानी:- जीवन का आधार

जीवन का आधार है पानी
हर मानव का प्राणाधार है पानी
चलो बचाए जीवन इसका
सृष्टि का दिया वरदान है पानी

Related Articles

मुझे वरदान दो

कविता -मुझे वरदान दो —————————- वरदान दो वरदान दो मुझे वरदान दो, उठी है जो लहर मुझ में हो विकट रूप जैसा गति तेज सुनामी…

कुछ नया करते

चलो कुछ नया करते हैं, लहरों के अनुकूल सभी तैरते, चलो हम लहरों के प्रतिकूल तैरते हैं , लहरों में आशियाना बनाते हैं, किसी की…

Responses

  1. प्रज्ञा जी हम एक बात याद आई,

    मछली जल की रानी है
    जीवन उसका पानी है
    हाथ लगाओ तो डर जाएगी
    बाहर निकालो तो मर जाएगी

    प्रज्ञा जी अगर इंसान अब ना सुधरा इन मछलियों से बुरी स्थिति हम मानव की होगी आपकी रचना अति सुंदर

    1. सही कहा आपने तभी तो मैंने कहा
      चलो बचायें जीवन इसका
      यानी पानी बचाएं..
      इतनी अच्छी समीक्षा के लिए आभार

New Report

Close