प्यासा समंदर और मैं

0

मैं प्यासा था,
समंदर में,
दो अंजुली प्यास, खो आया ।
बड़ा आरोप लगा मुझ पर,
मैं अपना आप खो आया ।।

समंदर नें,
उदासी को,
मेरी आंखों में जब देखा ।
उदासी घुल गई उसमें,
मैं पल्लव सा, निखर आया ।।

समंदर को,
शिकायत हो,
तो हो जाये, ये जायज है ।
मगर उनको शिकायत है,
मैं जिनको भूल ना पाया ।।

समंदर तो,
अभी भी है,
किसी की प्यास, का प्यासा ।
मैं सचमुच में ही, घुल जाता,
रहते वक़्त, निकल आया ।।

समंदर की,
कहानी भी,
बड़ी दिलचस्प है, यारों ।
समंदर आज भी, प्यासा,
कई दरिया, निगल आया ।।

Copyright @ नील पदम्
Deepak Kumar Srivastava

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 29, 2019, 7:02 am

    Nice

  2. NIMISHA SINGHAL - November 29, 2019, 7:52 am

    Wah

  3. Abhishek kumar - November 29, 2019, 8:26 am

    Nice

  4. देवेश साखरे 'देव' - November 29, 2019, 12:48 pm

    बहुत सुन्दर

  5. nitu kandera - December 2, 2019, 7:46 am

    Wah

Leave a Reply