बेखुदी

बेखुदी में जो उठ गये थे कदम
तेरी बेवफाई याद आते ही
खुद-ब-खुद रूक गये…

Related Articles

रूक तो ज़रा

अनिश्चितता के सवालों में है मानव पङा कैसी होगी जिन्दगी, सुलसा भांति मुँह बाए खङा । कल की जिन्दगी का नहीं जन को पता खता…

Responses

New Report

Close