मर्ज़ी

प्रेयसी — तुम्हे मै प्यार करू या ना करू,
ये है मेरी मर्ज़ी |
तुम्हे मुझसे प्यार है तो,
सिर्फ लगा सकते हो अर्जी |
प्रेमी — सच्चा प्यार करता हूँ तुमसे,
नहीं आशिक हूँ मै फ़र्जी |
अब मिलने तुमसे तब ही आऊंगा,
जब हो तुम्हारी मर्ज़ी |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 26, 2019, 11:05 pm

    वाह बहुत सुंदर

  2. देवेश साखरे 'देव' - September 27, 2019, 12:28 am

    Nice

  3. Poonam singh - September 27, 2019, 3:58 pm

    Nice

  4. NIMISHA SINGHAL - September 27, 2019, 6:33 pm

    Nice

  5. sandhya Singh - September 28, 2019, 12:50 pm

    Bahut khub👌

  6. Ishwari Ronjhwal - October 1, 2019, 5:14 pm

    Nice

  7. Reena Sudhir - October 1, 2019, 5:24 pm

    Nice

Leave a Reply