मैं निरीह…

मैं निरीह…

वह मुझे बताता है  निरीह  निर्जन  निरवता वासी हूँ

जब से मानव मानव न रहा मै बना हुआ वनवासी हूँ |

अवतरण हुआ जब कुष्ठमनन कुंठा व्याप्त हुआ जग में

तब विलग हो गया मै जग से अब एकांत का वासी हूँ ||

मैं शुन्यकाल के अनुभव का साक्षी क्या तुमको बतलाऊँ

मैं साधक सूने का मतिहीन मैं आत्मदर्श अभिलाषी हूँ |

तुम तीर्थभ्रमण करते हो व्यर्थ सब व्याप्त तुम्हारे अंतर में

आए जो हुए मुझ में विलिन  देखे मै मथुरा काशी हूँ ||

उपाध्याय…

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Kavi Manohar - August 25, 2016, 8:39 pm

    Nice

Leave a Reply