रूह-ए-ज़िन्दगी हम भरते है तबसे

ज़िन्दगी ने रूह को लुटा है जबसे
रूह-ए-ज़िन्दगी हम भरते है तबसे

……. यूई

Related Articles

Responses

New Report

Close