रौशनी

रौशनी बहुत है मेरे यार तारे नहीं दिखेंगे,
गरीबों के माथे पे लिखे नारे नहीं दिखेंगे,

बचा लो इस घर को अभी ज़िंदा हो तुम,
मरने के बाद तो दर ओ दीवारे नहीं दिखेंगे,

काट दो ये बेडियाँ और कैद मत रहो यहाँ,
तुम्हारे बाद फिर वक्त के मारे नहीं दिखेंगे,

चलो ले चलो चाहें जैसे भी पार नदिया के,
हाथों में हाथ लोगे तो पतवारे नहीं दिखेंगे,

ये आखिरी पड़ाव नहीं है उम्र का जान लो,
अभी से तुम्हें आने वाले अंगारे नहीं दिखेंगे,

अभी भी रंज हैं ‘राही’ उठकर संभल जाओ,
गर्दिश-ए-दौर में उल्फत के सहारे नहीं दिखेंगे।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 10:37 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना ढेरों बधाइयां

  2. देवेश साखरे 'देव' - September 8, 2019, 11:53 pm

    बहुत खूब

  3. Kanchan Dwivedi - September 9, 2019, 12:42 am

    बहुत खूब

  4. राम नरेशपुरवाला - September 9, 2019, 9:17 am

    Impressive

  5. ashmita - September 9, 2019, 11:02 pm

    Nice

Leave a Reply