लेने दो……..

दो लम्हे फुरसत मे और जी लेने दो
प्यास हु मैं, मुझे थोड़ा मय और पी लेने दो……………..!!

                                                     ……………….D K

Related Articles

कविता

“गान मेरे रुदन करते”(मेरी पुरानी रचना) गान मेरे रुदन करते कैसे मैं गीत सुनाऊँ जैसे भी हो हंस लेते तुम क्यों मैं तुझे रुलाऊँ |…

लम्हे..

ज़िन्दगी से कुछ लम्हे, बचाती रही एक बटुवे में उन्हें, सजाती रही सोचा था कि फुरसत से करूंगी खर्च, ज़िन्दगी में इसीलिए बचाती रही, कुछ…

Responses

New Report

Close