शोर नहीं जो दबा दिया जाऊँ

शोर नहीं जो दबा दिया जाऊँ
हर्फ़ नहीं जो मिटा दिया जाऊँ
कोई दीवार पे टंगी तस्वीर नहीं
जब चाहे जिसे हटा दिया जाऊँ
राजेश’अरमान’

Related Articles

एक उम्रभर

जिसे अपना समझकर चाहतें रहे एक उम्र भर जिसे अपना कहकर इतराते रहे एक उम्र भर जिससे आईने में देखकर शर्माते रहे एक उम्र भर…

Responses

New Report

Close