2liner

दो सिसकियाँ हीं कभी काफ़ी हैं दिल हल्का करने को,
दो साँसे हीं कभी काफ़ी हैं ज़िंदगी जी लेनो को

Related Articles

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. काफी है बस उनके साथ होने भर का अहसास
    जिंदगी को लफ्जों में ढलने को

  2. सिसकियाँ, दिल, साँसे, ज़िंदगी – gehne smet liye Urvashi ….sambhaal ke rakhna ..beshkeemtee hain …halke nehi bohut hee keemte hain yeh khzaane …

New Report

Close