उसूलों के धागे

सिले हैं होंठ मेरे उसूलों के धागों से
पर क्या करूँ मेरे उसूल ही मेरे जीने का बहाना हैं…..

Related Articles

Responses

New Report

Close