कर्ण

महादानी कर्ण ने दान किया कवच और‌ कुण्डल,
बाधाओं से लड़कर हार कभी ना माने।
सूर्य का उपासना करके अटल रहे वचन पर,
दिव्य शक्ति देकर इन्द्र को महादानी कर्ण कहलाये।।

✍महेश गुप्ता जौनपुरी

Published in मुक्तक

Related Articles

हे अटल! अटल रहो

अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती पर विशेष प्रस्तुति:- ********************************************* हे अटल ! अटल रहो यूँ ही हृदय में बसे रहो दिव्य ज्योति बनकर सदा…

अटल-जयंती

क्या हार में क्या जीत में किंचित नहीं भयभीत मैं, कर्तव्य पथ पर जो मिला यह भी सही वह भी सही, वरदान नहीं मांगूंगा, हो…

Responses

New Report

Close