कविता

कविता

प्राण प्रग्या को बचाये चल रहा हूँ
कर प्रकाशित मै तिमिर को जल रहा हूँ |
अल्प गम्य पथ प्रेरणा देता मनुज
मैं उतुंग गिरि सा शिखर अविचल रहा हूँ ||
शिथिल वेग स्निग्ध परियों का शरन है
मै नही मतिहीन इसमें पल रहा हूँ |
मैं गिरा गति लय प्रौढ़ाधार में बहता हुआ
भूत से चल आज भी अविरल रहा हूँ ||
उपाध्याय…

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Ritika bansal - August 6, 2016, 11:02 pm

    nice one

Leave a Reply