गजल- मै ही अंदर था |

गजल- मै ही अंदर था |
बहर – मुजतस मुसम्मन मखमुन महजूफ
अरकान -मुफाएलुन फ़एलातुन मुफाएलुन फेलून
1212 1122 1212 22
काफिया – दर ,रदीफ़ – था
*************************************
ढूँढना उसे कहा जिधर देखो उसी का मंजर था |
जब कुए मे झांक कर देखा तो मै ही अंदर था |
नजर उठा कर देखो हर तरफ उसी का नजारा है |
करके सजदा देखा दीदार उसका कितना सुंदर था |
दिखता नहीं वो गर लगा लिया चशमा बुराई का |
दिल से पुकार देखा उमड़ता प्यार का संन्दर था |
चाहत नफरत मोहब्बत सब उसी का बदला रूप |
जिसने जितना चाहा उसे वही मस्त कलंदर था |
मीरा का श्याम रुक्कमनी सत्यभामा कृष्ण कहो |
गोप गोपिया ही नहीं कान्हा राधा का दिलवर था |
मंदिर मस्जिद या गिरिजा गुरुद्वारा मे ढूंढो उसे |
दिल से मानो खुदा वरना पड़ा रास्ते का पत्थर था |
आई जो मुसीबत क्यो इतना घबराते भारती तुम |
हाथ दोनों उठाकर जो पुकारा वही हमारा रहबर था |

श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

कवि का समर्पण

शहीद को सलाम

चाहता हूँ माँ

हिन्दी सावन शिव भजन 2 -भोला जी की भंगिया |

9 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - June 5, 2020, 7:06 am

    सुंदर रचना

  2. Pragya Shukla - June 5, 2020, 1:40 pm

    Nice

  3. Panna - June 6, 2020, 12:44 pm

    nice

  4. Abhishek kumar - July 13, 2020, 12:00 am

    👌👌👌👏👏

Leave a Reply