डॉक्टर साहब

कविता- डॉक्टर साहब
——————————-
देखिए डॉक्टर साहब जी,
बेटा क्यों अब रोता हैं|

रात अंधेरी काले बादल,
रिमझिम बरसा पानी था,
हाय पिताजी प्रेम तुम्हारा,
कितना अद्भुत अच्छा था,

देखा हमकों रोतें जैसे,
रख कंधे पर दौड़े चले,
दवा कराने कई कोश चले तुम,
रात अंधेरी काट चले,

इतनी जल्दी पापा तुमको,
नंगे पाव ही दौड़ दिए ,
ठेश सहें पग पग पर,
दर्द कभी ना सहने दिए,

हर जन्म में आपका ही मिलना,
‘ऋषि’ बिनती ऐसा करता हैं,
जन्म2 सेवा करके भी,
ना ऋण से मुक्ति पा सकते हैं, देखिये…….
———————————————————-
**✍ऋषि कुमार ‘प्रभाकर’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

4 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 9, 2020, 2:04 pm

    अतिसुंदर भाव

  2. Geeta kumari - November 9, 2020, 2:11 pm

    पितृ प्रेम पर आधारित बहुत सुंदर रचना

  3. Anu Singla - November 9, 2020, 2:26 pm

    सुन्दर भाव

  4. Pragya Shukla - November 9, 2020, 5:53 pm

    पिता-पुत्र प्रेम से सजी कविता बहुत सुंदर है

Leave a Reply