दोस्ती

चलो थोडा दिल हल्का करें
कुछ गलतियां माफ़ कर आगे बढें
बरसों लग गए यहाँ तक आने में
इस रिश्ते को यूं ही न ज़ाया करें
कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें

कड़ी धूप में रखा बर्तन ही मज़बूत बन पाता है
उसके बिगड़ जाने का मिटटी को क्यों दोष दें
कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें

यूं अगर दफ़न होना होता ,तो कब के हो गए होते
सिल लिए थे कई ज़ख़्म हम दोनों ने ,
तब जा के ये रिश्ते आगे बढें
कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें

दोस्ती एक घर है जिसमे विचारों के बर्तन खड्केंगे ही
विचारों में है जो दूरियां उनको क्यों आकार दें
कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें

यूं भावनाओं के आवेश में चार बातें निकल जाती हैं
उन बातों का मोल बढ़ा कर
अपनी अनमोल दोस्ती का मोल कम न करें
कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें

अर्चना की रचना “सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Abhishek kumar - January 14, 2020, 10:21 pm

    Nice

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 15, 2020, 7:39 am

    Nice

  3. Priya Choudhary - January 15, 2020, 11:12 am

    Good

  4. Archana Verma - January 15, 2020, 8:36 pm

    धन्यवाद आप सभी का

  5. NIMISHA SINGHAL - January 16, 2020, 1:55 pm

    🌺🌺🙏🙏

  6. Kanchan Dwivedi - January 16, 2020, 3:38 pm

    Very nice

  7. Pragya Shukla - January 17, 2020, 10:15 pm

    Nice

Leave a Reply