न कहो बेटी पराई है

किसने कहा कि,
बेटी पराई है
ये वो शख्सियत है,
इस दुनियां की
जो मायके और ससुराल,
दोनों जगह ही छाई है
ससुराल में सब कहें,
क्या रौनक लगी है,
देखो, घर में बहू आई है
रसोई की महक से,
घर में हुई चहक से
पड़ोसी भी जान जाएं,
कि बेटी घर आई है
तो, न कहो कि बेटी पराई है

*****✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुस्कुराना

वह बेटी बन कर आई है

चिंता से चिता तक

उदास खिलौना : बाल कबिता

11 Comments

  1. Pragya Shukla - November 5, 2020, 12:10 pm

    सुंदर अभिव्यक्ति

  2. Geeta kumari - November 5, 2020, 12:12 pm

    धन्यवाद प्रज्ञा

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 5, 2020, 2:38 pm

    वाह वाह बहुत सुंदर भाव

  4. Praduman Amit - November 5, 2020, 7:26 pm

    बहुत ही सुन्दर।

  5. vivek singhal - November 5, 2020, 11:18 pm

    सुंदर भाव

  6. Dhruv kumar - November 8, 2020, 9:47 am

    Nyc

Leave a Reply