बेटी की फ़रियाद

सारा घर दे देना पापा
कोना एक बचाए रखना।
हाथों को हाथ सौंपने देना
उंगली एक छिपाए रखना

यादों की बगिया में घर की
एक छोटा फूल नाम का मेरे
पानी देना- ना देना
थोड़ी धूप दिखाए रखना
सारा घर दे देना पापा कोना एक बचाए रखना

माना परिवर्तन होगा भईया
हो जाए तो होने देना
हां मेरे हिस्से का प्यार सदा
दराजों में बनाए रखना।

जाएंगे सब आगे बढ़कर
मुझको भी तो जाना होगा
बीते शामों की झालर में
दीपक एक सजाए रखना।

सारा घर दे देना पापा कोना एक बचाए रखना


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

19 Comments

  1. PRAGYA SHUKLA - December 19, 2019, 4:37 pm

    Waah

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 19, 2019, 7:40 pm

    …nice

  3. Kanchan Dwivedi - December 19, 2019, 8:29 pm

    Thanks

  4. Amod Kumar Ray - December 19, 2019, 9:11 pm

    Good

  5. Kanchan Dwivedi - December 19, 2019, 9:27 pm

    आभार आपका

  6. Abhishek kumar - December 19, 2019, 9:51 pm

    Good

  7. देवेश साखरे 'देव' - December 20, 2019, 12:14 am

    बहुत सुन्दर

  8. Kanchan Dwivedi - December 20, 2019, 2:11 am

    धन्यवाद

  9. Pragya Shukla - December 20, 2019, 10:33 pm

    अच्छा लिखा है आपने

  10. King radhe King - December 21, 2019, 12:41 pm

    वाह

  11. Kanchan Dwivedi - December 24, 2019, 2:47 pm

    Thank you

Leave a Reply