मानवता नि:शब्द

आज कुदरत भी शर्माया होगा,
मानव रूपी दानव जो बनाया l
विनायकी नहीं, मानवता ने दम तोड़ा l
मानवता का रूह सिहर उठा,
मानव द्वारा मानवता का चीर हरण हुआ l
मासूमों पर क्रूरता प्रमाण हुआ,
मानवता नि:शब्द…..
दोबारा निर्भया जैसी क्रूरता रची गई,
बहरुपी मानव की नींव हिलाई l
खाने में भयंकर पीड़ा परोसी,
नन्हे जान की भी नहीं सोची l
इस बर्बरता ने मानव चरित्र दर्शायी,
कुदरत सहम उठी l
मानवता नि:शब्द…..

Related Articles

नारी वर्णन

मयखाने में साक़ी जैसी दीपक में बाती जैसी नयनो में फैले काजल सी बगिया में अमराई जैसी बरगद की शीतल छाया-सी बसन्त शोभित सुरभी जैसी…

Responses

New Report

Close