मानवता

हमदर्दी की चादर अब सुकुड़ सी गयी है।

मानवता और दया अब कुछ पड़ गयी है।।

Related Articles

Responses

New Report

Close