मुक्तक

तुझे मैं ढूँढता हूँ कहाँ कहाँ पर?

कदम यादों के हैं जहाँ जहाँ पर!

दर्द की मिनारें हैं मौजूद जिसजगह,

जिन्दगी भी दफ्न है वहाँ वहाँ पर!

 

रचनाकार- मिथिलेश राय #महादेव’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

4 Comments

  1. Sridhar - August 29, 2016, 8:40 pm

    wah kya baat he

    • Starr - September 9, 2016, 3:59 pm

      Oct08 My partner and I stumbled over here dienfreft page and thought I may as well check things out. I like what I see so now i’m following you. Look forward to looking over your web page again.

  2. Pragya Shukla - April 8, 2021, 11:14 pm

    Nice

Leave a Reply