मैं समंदर हूँ

मैं समंदर हूँ

ऊपर से हाहाकार

पर भीतर अपनी मौज़ों

में मस्त हूँ

मैं समंदर हूँ

दूर से देखोगे तो मुझमें

उतर चढ़ाव पाओगे

पर अंदर से मुझे

शांत पाओगे

मैं निरंतर बहते रहने

में व्यस्त हूँ

मैं समंदर हूँ

ऐसा कुछ नहीं जो

मैंने भीतर छुपा रखा हो

जो मुझमे समाया

उसे डूबा रखा हो

हर बुराई बाहर निकाल

देने में अभ्यस्त हूँ

मैं समंदर हूँ

हूँ विशाल इतना के

एक दुनिया है मेरे अंदर

जो आया इसमें , उसका

स्वागत है बाहें खोल कर

अपना चरित्र बनाये

रखने में मदमस्त हूँ

मैं समंदर हूँ

लोगों के लिए खारा हूँ

पर तुम बने रहो उसके

लिए सब हारा हूँ

बदले में तुमने जो

दिया उस से अब मैं

त्रस्त हूँ

मैं समंदर हूँ

ऊपर से हाहाकार

पर भीतर अपनी मौज़ों

में मस्त हूँ

मैं समंदर हूँ


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Charusheel Mane @ Charushil @ Charagar - November 16, 2019, 2:58 pm

    मन के भाव सुंदरता से गुंफन मन के भाव सुंदर

  2. nitu kandera - November 16, 2019, 3:32 pm

    Very nice

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 16, 2019, 3:33 pm

    बहुत खूब

  4. देवेश साखरे 'देव' - November 16, 2019, 8:57 pm

    बहुत सुन्दर

  5. NIMISHA SINGHAL - November 17, 2019, 12:53 am

    Sunder bhav

  6. Archana Verma - November 18, 2019, 1:15 pm

    bahut bahut aabhar ap sabka es sarahna ke liye….sada aise he protsahan dete rahein …

  7. Abhishek kumar - November 23, 2019, 10:33 pm

    अच्छा है

  8. Pragya Shukla - December 10, 2019, 11:19 am

    वाह

  9. Pragya Shukla - February 29, 2020, 11:04 pm

    Nice

Leave a Reply