मोहब्बत

तुम भी बेवक्त चले हो घर अपने, 

जब हमने शहादत के स्मारक पर मोहब्बत लिख दी है ||

~सचिन सनसनवाल


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

अब जितने भी अल्फाज है , मेरी कलम ही मेरे साथ है |

Related Posts

“रंग” #2Liner

“याद”#2Liner…..

“इलाज” #2Liner-111

“चाँद” #2Liner-110

3 Comments

  1. Panna - March 29, 2016, 7:15 am

    nice

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 10:49 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply