याद आते हैं वो पल

याद आते हैं वो पल
जो बिताये साथ तेरे
अब नहीं रौनक रही
तेरे बिना कुछ पास मेरे।
खोजता हूँ पल वही
बीते दिनों को ढूंढता हूँ ,
अवसर गंवाकर खो दिया तू
शून्य है अब हाथ मेरे।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

12 Comments

  1. मोहन सिंह मानुष - August 9, 2020, 11:39 pm

    जो दिल के बहुत क़रीब होते हैं उनकी यादें हमें सच में भावुक कर देती है।
    भावपूर्ण ,अतिसुंदर

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - August 10, 2020, 7:47 am

    Nice

  3. Indra Pandey - August 10, 2020, 11:29 am

    Atisundar

  4. MS Lohaghat - August 10, 2020, 12:02 pm

    बहुत खूब

  5. Satish Pandey - August 10, 2020, 12:14 pm

    धन्यवाद जी

  6. Kumar Piyush - August 10, 2020, 8:17 pm

    waah

  7. Shraddha Forest - August 11, 2020, 3:33 pm

    सुंदर रचना,मार्मिक

  8. Satish Pandey - August 12, 2020, 10:54 pm

    धन्यवाद

Leave a Reply