वसुधा को हरा-भरा बनाए हम

जब सांसे हो रही है कम ,आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम,
आओ नमन करे हम वसुधा, को जो मिटाती है हम सबकी क्षुधा को,
जो बिना भेदभाव हम सबको पाले,वह भी चाहे पेड़ों की बहुधा को,
नये पेड़ों को फिर से रोपकर, इसे फिर बनाए रत्नगर्भा हम,
आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।
एक अकेले से कुछ ना होगा,हमें चाहिए सबका साथ,
पृथ्वी मां की रक्षा को फिर से बढ़ाओ अपने हाथ,
फिर कमी न कुछ जीवन में होगी,होगी तरक्की दिन और रात,
खुद जागें औरों को भी जगाए हम,
आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।
मानो तो माटी है मानो तो यह है चंदन,
हम सब मां को मनाएंगे और करेंगे फिर से वंदन,
पृथ्वी को हरा-भरा करने को निछावर कर दें अपना तन मन,
पृथ्वी मां जब मुस्काएगी तब दूर होंगे सारे गम,
आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।
ऑक्सीजन की कमी यूं बनी हुई,सांसे यूं सबकी थमी हुई,
लोगों का बिछड़ना शुरू हुआ,आंखों में फिर से नमी हुई,
ऑक्सीजन की कमी को दूर करें यूं हम,
आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।
जब धरती मां मुस्काएगी,परेशानियां स्वयं दूर हो जाएंगी,
एक दिन की तो यह बात नहीं,होगी यदि इनकी देखभाल जीवन में खुशियां आएंगी,
एक दिन के पृथ्वी दिवस से क्या होगा,आओ रोज पृथ्वी दिवस मनाएं हम।
आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।।
(पृथ्वी दिवस पर रचित मेरी कविता का संपूर्ण अंश प्रेषित ना होने के कारण मैं यह कविता आज पुनः प्रेषित कर रही हूं।)

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. पृथ्वी मां जब मुस्काएगी तब दूर होंगे सारे गम,
    Ati sundar rachna… Kavita k bol apke bht pasand aye

  2. पृथ्वी दिवस की सार्थकता को चरितार्थ करती हुई आपकी यह कविता,अति सुंदर रचना

  3. ऑक्सीजन की कमी को दूर करे हम ,आओ फिर से वृक्ष लगाए हम …….nice poem 🤘

  4. पृथ्वी मां की रक्षा को बढ़ाओ अपने हाथ,फिर कमी ना होगी कुछ जीवन में होगी तरक्की दिन-रात।
    आपकी कविता का संपूर्ण अंश बहुत सारगर्भित है एकता जी,
    बहुत सुंदर रचना

  5. हम सब मां को मनाएंगे और करेंगे फिर से वंदन,
    पृथ्वी को हरा-भरा करने को निछावर कर दें अपना तन मन,
    बहुत सुन्दर रचना है। 🙏🙏

    1. एक दिन के पृथ्वी दिवस से क्या होगा,आओ रोज पृथ्वी दिवस मनाएं हम।
      आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।बहुत सुंदर एकता जी,
      बहुत सुंदर रचना

  6. एक अकेले से कुछ ना होगा हमें चाहिए सबका साथ
    पृथ्वी मां की रक्षा को फिर बढ़ाओ सब अपने हाथ,
    पृथ्वी दिवस की सार्थकता को चरितार्थ करते हुए आपकी यह कविता बेहद सुंदर रचना

  7. बहुत ही सुन्दर रचना
    ऑक्सीजन की कमी यूं बनी हुई,सांसे यूं सबकी थमी हुई,
    लोगों का बिछड़ना शुरू हुआ,आंखों में फिर से नमी हुई,
    ऑक्सीजन की कमी को दूर करें यूं हम,
    आओ फिर से वृक्ष लगाएं हम।
    👌👌🙏🙏🌹

New Report

Close