वो आये दबे पांव से यूं

वो आये दबे पांव से यूं
कानों ने तो कुछ सुना नहीं
मगर दिल ने सब सुन लिया


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

14 Comments

  1. Geeta kumari - September 6, 2020, 7:03 pm

    बहुत सुंदर रचना वसुंधरा जी

  2. Satish Pandey - September 6, 2020, 7:57 pm

    वाह क्या कहने, वसुंधरा जी, बहुत खूब

  3. प्रतिमा चौधरी - September 6, 2020, 8:15 pm

    सुन्दर पंक्तियां

  4. Anu Singla - September 6, 2020, 8:40 pm

    Wah

  5. मोहन सिंह मानुष - September 6, 2020, 10:25 pm

    जिनके साथ गहरे आंतरिक सम्बंध होते हैं
    उनका आभास मन में हो ही जाता है।
    बहुत सुंदर पंक्तियां

  6. Praduman Amit - September 7, 2020, 10:56 am

    इसे ही कहते है लोग सच्ची मुहब्बत।
    खुदा करे लगे न कभी इन पर तोहमत।।

  7. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 7, 2020, 11:13 am

    सुंदर

Leave a Reply