व्याकुल जी जान से

पयोद धर बाण जल का
चलाये तड़ित की कमान से
धरती आहत होने को आकुल
प्रेम में मरने को व्याकुल जी जान से|

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Poonam singh - August 7, 2019, 11:38 am

    Nice

  2. देवेश साखरे 'देव' - August 11, 2019, 2:32 am

    बहुत सुंदर

  3. Antima Goyal - August 24, 2019, 11:06 am

    shukriya

Leave a Reply