Bhagya

गुजर रही है जिन्दगी यूं ही गुजर जायेगी।

प्रभु तेरी कृपा से भाग्य संभल जायेगी।।

Related Articles

हम दीन-दुःखी, निर्बल, असहाय, प्रभु! माया के अधीन है ।।

हम दीन-दुखी, निर्बल, असहाय, प्रभु माया के अधीन है । प्रभु तुम दीनदयाल, दीनानाथ, दुखभंजन आदि प्रभु तेरो नाम है । हम माया के दासी,…

Responses

New Report

Close