Ek abaj dekar mujhe bula lo lo

एक आवाज देकर,
मुझे बुला लो तू सनम,
दौड़ी चली आऊंगी,
कुछ नहीं सोचूंगी सनम,
तूने अब तक मुझे,
पुकारा ही नहीं,
तूने अब तक मुझे,
ठीक से जाना ही नहीं,
मैं तो तेरे प्यार में,
गिरफ्तार हूं सनम,
बस एक तेरी आवाज
देने की जरूरत है सनम,
तुम भी मुझे प्यार करो,
तो दुनिया मेरी संवर जाए सनम,
तेरे बिना जीना गवारा नही है सनम |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. Anil Kumar mishra - October 16, 2019, 3:49 pm

    very nice.

  2. NIMISHA SINGHAL - October 16, 2019, 9:59 pm

    Good

  3. nitu kandera - October 17, 2019, 7:10 am

    Good

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 17, 2019, 7:18 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply