अरी वो धूप

अरी वो धूप
तुम क्यों डर गई ठंडक से
चीर कर आ जाओ
हमें तपा जाओ,
जीने की राह दिखा जाओ
कुहरे को दूर कर
आ जाओ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Satish Pandey - January 9, 2021, 10:04 am

    वाह वाह, बहुत खूब, कवि ने अभिधा के साथ लक्ष्यार्थ साधना की है। भाषा मे सुन्दर प्रवाह है, कविता संप्रेषणीय है।

  2. Rishi Kumar - January 9, 2021, 11:31 am

    बहुत सुंदर 👌👌

  3. Geeta kumari - January 9, 2021, 12:08 pm

    कवि चंद्रा जी ने इतनी ठंड में धूप का आह्वाहन किया है, बहुत ख़ूब।
    अतिश्योक्ति अलंकार का सुन्दर प्रयोग,
    “अरी ओ धूप तुम क्यों डर गई ठंडक से चीर कर आ जाओ
    हमें तपा जाओ,”
    सुन्दर,शिल्प , ख़ूबसूरत कथ्य और सुन्दर लय साथ लिए हुए रोचक कविता

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 9, 2021, 10:23 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply