“कर्ज़”

चूका ना सकोगे कभी उज़रत हमारे क़ब्ल की_

दिल में शगुफ्ता सी मोहब्बत..वो कर्ज़ हैं तुम पर_

-PRAGYA-

Related Articles

#कृष्णा

मंत्र मुग्ध हैं यशोदा देख , अठखेलियाँ घनश्याम की_ पाकर नंद भी उमंग से धरणी पर , नृत्य करते दुलार करते श्याम की_ शताब्दियाँ भी…

मुक्तक

उष्णत्तर उरदाह की अनुभूति क्या तुम कर सकोगे कृत्य नीज संज्ञान कर अभिशप्तता मे तर सकोगे ! एक एक प्रकृति की विमुखता पर पांव धर…

Responses

New Report

Close