कर्म धर्म

दया धर्म के बल पर प्राणी,
जीत लेता है विश्व संसार।
कर्म धर्म को करते रहना,
कभी ना मानना तुम हार।।

✍महेश गुप्ता जौनपुरी

Related Articles

कविता:- सफर

जीवन के इस सफ़र में प्रकृति ही है जीवन हमारा, बढ़ती हुई आबादी में किंतु हर मनुष्य फिर रहा मारा-मारा॥ मनुष्य इसको नष्ट कर रहा…

Responses

New Report

Close