कहाँ रहते हो #2Liner-96

ღღ__कहाँ रहते हो तुम भी, आज-कल “साहब”;
.
बात-बिन-बात, दिल दुखाने नहीं आते!!….‪#‎अक्स

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

सुखद है मित्रों का संसार

प्यारे मित्रो

From Death 2 Life

एक राह अक्सर चलोगे

एक राह अक्सर चलोगे

Leave a Reply