कोरे मेरे,सपने मेरे…..

कोरे मेरे, सपने मेरे,
कोरे ही रह जाएंगे….२
उम्मीदें देंगी,दस्तक उन तक,
उम्मीदें ही रह जाएंगी….
कोरे मेरे, सपने मेरे,
कोरे ही रह जाएंगे…२
शामें देगी,उल्फत उनको,
शामें ही रह जाएंगी…
कोरे मेरे,सपने मेरे,
कोरे ही रह जाएंगे….२
यादें लेगी, करवट उन तक,
यादें ही रह जाएंगी…
कोरे मेरे, सपने मेरे,
कोरे ही रह जाएंगे….२


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

4 Comments

  1. Pragya Shukla - October 6, 2020, 11:41 pm

    Good

  2. Suman Kumari - October 7, 2020, 12:52 am

    सुन्दर अभिव्यक्ति

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 7, 2020, 7:45 am

    अतिसुंदर भाव

  4. Suman Kumari - October 7, 2020, 11:33 am

    सुन्दर

Leave a Reply