क्या है भारत।

क्या है भारत ।

एक कल्पना है ये भारत, हरिअर वन-खलिहानो की
रहे सूखी जहाँ ये धरती तो उसे भारत नही समझना

एक उम्मीद है ये भारत, जो नित् पथ दिखाए जग को
बिखरे जो यूँ तूफाँ से तो उसे भारत नहीं समझना

एक आवाज है ये भारत,जो मधुर ज्ञान दे जगत को
कहीं गुम अगर हो जाए तो उसे भारत नहीं समझना

एक विचार है ये भारत, संगठित करे जो जगत को
विभाजन अगर जो चाहे तो उसे भारत नहीं समझना

एक कर्म है ये भारत, जो जीवन सिखाए जगत को
जो उलझनो में घिर जाए तो उसे भारत नहीं समझना

एक स्वप्न है ये भारत, जो धूमिल करें हर हद को
हलचल से जो टूट जाए तो उसे भारत नहीं समझना

एक राष्ट्र है ये भारत, जो परिवार कहे इस जगत को
ये गुण जहाँ मिल जाए तो उसे भारत ही तुम समझना


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

3 Comments

  1. Panna - August 10, 2016, 2:01 am

    बेहतरीन पेशकश

  2. anupriya sharma - August 10, 2016, 5:52 pm

    Nice

  3. Kanchan Dwivedi - March 20, 2020, 10:00 pm

    Behtareen

Leave a Reply