चिमणा चिमणीच प्रेम…!!

आनंद भरला मनी हर्षचा ?
चिवचिव करत गाणी गात… ?
झाडावरच्या फांदीवर उबदार घरट्यात ?
चोंचीत चोंच वेडे प्रेमात…!! ?

Related Articles

प्रेम

चिरायु,चिरकाल तक रहने वाला चिरंतन है प्रेम, निष्काम, निः संदेह निश्चल है प्रेम। पुनरागमन, पुनर्जन्म ,पुनर्मिलन है प्रेम। संस्कार, संभव संयोग है प्रेम, लावण्य, माधुर्य,…

Responses

New Report

Close