“डर लगता है!!”

“डर लगता है!!”

ღღ__जब दर्द भी दर्द ना दे पाए, तो डर लगता है;
आशिक़ी हद से गुज़र जाये, तो डर लगता है!!
.
डर लगता है अक्सर, किसी के पास आने से;
पास आके वो गुज़र जाये, तो डर लगता है!!
.
कुछ ख्वाहिशें बेशक़, मर जाएँ तो ही बेहतर है;
कुछ ज़रूरतें यूँ ही, मर जाएँ तो डर लगता है!!
.
इक बार कहा था उसने, आशिक़ी बे-मतलब है;
ये मतलब गर समझ आ जाये, तो डर लगता है!!
.
कोई ऐसा भी घाव होगा, जिससे मरने में हो मज़ा;
जो वही घाव भर जाए ‘अक्स’, तो डर लगता है!!…..‪#‎अक्स‬

.

 


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

सुखद है मित्रों का संसार

प्यारे मित्रो

From Death 2 Life

एक राह अक्सर चलोगे

एक राह अक्सर चलोगे

4 Comments

  1. Kavi Manohar - May 30, 2016, 9:22 pm

    Nice

  2. राहुल द्विवेदी - May 30, 2016, 11:08 pm

    वाह्ह्ह्ह्ह्ह्
    ग़ज़ल में शेर के दोनों मिसरों में है या रदीफ़ के किसी अक्षर स्वर शब्द आदि की बन्दिस नही कर सकते । तकाबुले रदीफ़ ऐब माना जाता है

    • Ankit Bhadouria - June 17, 2016, 2:54 pm

      shukriya Rahul ji……..maafi chahunga bt…..hme bahar ya meter wagairah ki bilkul b jankari ni h….iss wajah se ye galtiya bht hoti h…….:(

Leave a Reply