“डर लगता है!!”

“डर लगता है!!”

ღღ__जब दर्द भी दर्द ना दे पाए, तो डर लगता है;
आशिक़ी हद से गुज़र जाये, तो डर लगता है!!
.
डर लगता है अक्सर, किसी के पास आने से;
पास आके वो गुज़र जाये, तो डर लगता है!!
.
कुछ ख्वाहिशें बेशक़, मर जाएँ तो ही बेहतर है;
कुछ ज़रूरतें यूँ ही, मर जाएँ तो डर लगता है!!
.
इक बार कहा था उसने, आशिक़ी बे-मतलब है;
ये मतलब गर समझ आ जाये, तो डर लगता है!!
.
कोई ऐसा भी घाव होगा, जिससे मरने में हो मज़ा;
जो वही घाव भर जाए ‘अक्स’, तो डर लगता है!!…..‪#‎अक्स‬

.

 


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

4 Comments

  1. Kavi Manohar - May 30, 2016, 9:22 pm

    Nice

  2. राहुल द्विवेदी - May 30, 2016, 11:08 pm

    वाह्ह्ह्ह्ह्ह्
    ग़ज़ल में शेर के दोनों मिसरों में है या रदीफ़ के किसी अक्षर स्वर शब्द आदि की बन्दिस नही कर सकते । तकाबुले रदीफ़ ऐब माना जाता है

    • Ankit Bhadouria - June 17, 2016, 2:54 pm

      shukriya Rahul ji……..maafi chahunga bt…..hme bahar ya meter wagairah ki bilkul b jankari ni h….iss wajah se ye galtiya bht hoti h…….:(

Leave a Reply