दु:खों से नाता

दु:खो से उबरना क्या
इनसे तो जन्मों का नाता है
मीठा तो कभी-कभी
नमकीन साथ निभा जाता है ।
ज्यादा मीठा हो तो
मन जल्दी ही उब जाता है
नमकीन के बल पर ही
मीठा भी रास हमें आता है ।
सुख की घङियो में
इन्सान खुद को भूल जाता है
दु:ख की दारूण वेला ही
इंसान को औकात बता जाता है ।
मन में यह बेचैनी क्यूँ
क्यूँ मन जार-जार हो जाता है
दर्द का सैलाब क्यूँ
आँखो में अकसर उतर आता है ।
सुख की चाह नहीं
दु:ख से आह क्यूँ निकल आता है
अनहोनी के डर से
अंतर्मन भी कांप के रह जाता है ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

7 Comments

  1. Sandeep Kala - December 26, 2020, 8:48 pm

    बहुत ही सुंदर पंक्तियां

  2. Satish Pandey - December 26, 2020, 9:00 pm

    ज्यादा मीठा हो तो
    मन जल्दी ही उब जाता है
    नमकीन के बल पर ही
    मीठा भी रास हमें आता है ।
    बहुत खूब सुमन जी, काव्य शिल्प और भाव दोनों ही बेहतरीन हैं। लेखनी मजबूत पकड़ के साथ आगे बढ़ी है। बहुत सुंदर कविता।

  3. Suman Kumari - December 26, 2020, 9:52 pm

    इतनी सुन्दर समीक्षा एवं हौसला बढ़ाने के लिए मैं धन्यवाद ज्ञापित करती हूँ ।बहुत बहुत धन्यवाद

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 27, 2020, 8:26 am

    अतिसुंदर भाव

  5. Pragya Shukla - December 27, 2020, 6:02 pm

    बहुत ही सुंदर

  6. Geeta kumari - December 27, 2020, 6:16 pm

    अति सुन्दर भाव

Leave a Reply