नादान लड़की

तू क्यों नहीं समझती मेरे दिल के जज्बातों को…
क्या तेरे सीने में दिल नहीं…?
पत्थर है शायद !
दिल होता, तो धड़कता जरूर |

मैं वर्षों से एकटक लगाये तुझे देख रहा हूं,
और तुझे तेरी खूबसूरती का अंदाजा तक नहीं |
एक तू नादान, जो मुझे समझती नहीं ।
उस पर मेरी जवानी, जो थमती नहीं …
नादान लड़की… तेरे सीने में शायद दिल नहीं |


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Pragya Shukla - November 20, 2020, 12:22 am

    प्रेम को प्रकट करती हुई सुंदर रचना

  2. Geeta kumari - November 20, 2020, 10:44 am

    सुन्दर भावाभिव्यक्ति

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 21, 2020, 8:29 am

    अतिसुंदर

Leave a Reply