पतंग

पतंग को देख कर आज उड़ने को मन हुआ
फिर पैरों में पड़ी जंजीर देखकर मन थम गया


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

18 Comments

  1. An Ordinary Artist - August 10, 2020, 3:04 pm

    Kya baat hai 👏👏

  2. Satish Pandey - August 10, 2020, 3:57 pm

    बहुत खूब

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - August 10, 2020, 4:03 pm

    खूब

  4. मोहन सिंह मानुष - August 10, 2020, 4:48 pm

    बहुत खूब

  5. BPMIC Goshainganj ayodhya - August 10, 2020, 4:58 pm

    बिना कहे बहुत कुछ कह दिया
    आपने ।
    धन्यवाद

  6. Rajiv Mahali - August 10, 2020, 5:12 pm

    बहुत खूब

  7. Praduman Amit - August 10, 2020, 7:01 pm

    अति सुंदर भाव।

  8. Anuj Kaushik - August 10, 2020, 9:16 pm

    सुन्दर

  9. Suman Kumari - August 10, 2020, 11:08 pm

    सुन्दर

Leave a Reply