पूछतीं सवाल

लगता पूछती हो, बता माँ
कबतक बंदिशो में रहना होगा
कब खुलकर हंसना, बोलना
बेखौफ़ घर से निकलना होगा ।
कब मैं भी बेखौफ़, सुबह की सैर पर जाया करूँगी
दिन ढले भी निश्चिंतता से, मैं अकेले आया करूँगी।
मेरे स्वप्न कब उङान लेगें,
मेरे लिए भी द्वार, ऊँची शिक्षा के खुलेगे
कोटा, पटना, दिल्ली, जैसे शहर भी
कोई भी ना हमसे अछूता रहेंगे ।

बिटिया दिवस की ढेर सारी शुभकामनायें

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. कोरोना के कारण बंदिशों के बारे में अप्रसन्नता व्यक्त करती हुई बहुत सुंदर रचना

    1. सादर आभार सर
      मेरे आसपास जो घटित हो रहा है
      उसी को उभारने का प्रयास है ।समय बदलेगा, शहरों की तरह ग्रामीणभारत की बेटियां भी उङान भरेगी । यह तय है इनकी उम्मीदों को भी परवाज अवश्य मिलेंगे ।

  2. लगता पूछती हो, बता माँ
    कबतक बंदिशो में रहना होगा
    कब खुलकर हंसना, बोलना
    बेखौफ़ घर से निकलना होगा ।
    बहुत सुंदर पंक्तियां
    प्राचीन समय से महिलाओं पर लग रही बंदिशों तथा असुरक्षितता के भावों के प्रति रोष प्रकट करती हुई बहुत सुंदर काव्य कृति

New Report

Close