बसन्त का आगमन

हवाओं ने मौसम का,
रूख़ बदल डाला।
बसन्त के आगमन का,
हाल सुना डाला।
नवल हरित पर्ण
झूम-झूम लहराए।
रंग-बिरंगे फूलों ने,
वन-उपवन महकाए।
बेला जूही गुलाब की,
सुगंधि से हृदय हर्षित हुआ जाए।
कोमल-कोमल नव पर्ण,
अपने आगमन से
जीवन में ख़ुशहाली का,
सुखद संदेशा लाए।
बीता अब पतझड़ का मौसम,
हृदय प्रफुल्लित हुआ जाए।।
_____✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुस्कुराना

वह बेटी बन कर आई है

चिंता से चिता तक

उदास खिलौना : बाल कबिता

8 Comments

  1. Anu Singla - February 22, 2021, 9:56 pm

    बहुत सुन्दर

  2. Rakesh Saxena - February 23, 2021, 12:47 am

    बसंत के आगमन पर बहुत सुंदर रचना

  3. Pragya Shukla - February 23, 2021, 2:33 pm

    वाह दी बहुत खूब

  4. Rajeev Ranjan - February 24, 2021, 6:12 am

    कमाल

Leave a Reply