भारत माँ

चूड़ियाँ पहनी जिन हाथों में,
मैं तलवार उठा सकती हूँ।

नहीं देश का एक कोना दूँगी,
बदले में जां दे सकती हूँ।

जिन्होंने मुझे खोटा समझा,
उन्हें गर्व करा सकती हूँ।

पापा ने समझा खोटा सिक्का,
भारत माँ, मैं खरा बन सकती हूँ।

#UniqueMaya


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

4 Comments

  1. Sridhar - July 19, 2016, 6:57 pm

    awesome line…

  2. Pragya Shukla - December 9, 2019, 8:34 pm

    👏👏

Leave a Reply