“मैं कौन हूँ”

“मैं कौन हूँ”

ღღ_मैं कौन हूँ आखिर, और कहाँ मेरा ठिकाना है;
कहाँ से आ रहा हूँ, और कहाँ मुझको जाना है!
.
किसी मकड़ी के जाले-सा, उलझा है हर ख़याल;
जैसे ख़ुद के ही राज़ को, ख़ुद ही से छुपाना है!
.
मेरी पहचान के सवालों पर; ख़ामोश हैं सब यूँ;
जैसे पोर-पोर दुखता हो, और बोझ भी उठाना है!
.
वैसे तो इन गलियों से, मैं मिला ही नहीं कभी;
पर इस शहर से लगता है, रिश्ता कोई पुराना है!
.
इक भूला हुआ फ़साना, ज़हन में उभर रहा है;
कोई जो मुझको पूछे, कहना कि ये दिवाना है!
.
कोई शख्श हो शायद, मेरी पहचान का शहर में;
कि तलाश-ए-इश्क़ में हमने, छोड़ा आशियाना है!!…#अक्स

.


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

3 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:41 pm

    वाह बहुत सुंदर

  2. प्रतिमा चौधरी - September 3, 2020, 5:49 pm

    बेहतरीन

  3. Satish Pandey - September 3, 2020, 5:57 pm

    वाह वाह

Leave a Reply